Thursday, 20 June 2013

राजस्थान री रीत

बता राजस्थान  "बाँ " थारी रीत कठै।                                              
सीस कटियोड़ा धड़ लड़ रहया एडा पूत कठै। 
गाया खातर गाँव गाँव मे बलिदानी जुंझार कठै।                           
फेरा सू अधबीच मे उठतों "बो" पाबू राठोर कठै ।   
कठै है अब "बा" भामाशाह साहूकार री रीत। 








                                                              सुख दुख मे सब साग रेवता बा मिनखा री प्रीत कठै।  
                                                              मोठ बाजरा रो रोट ओर फोफलिया रो सांग कठै।  
                                                              मारवाड़ सू मेवाड़ तक गुजता "बी" मीरा रा गीत कठै।   
                                                              बता राजस्थान  "बाँ " थारी रीत कठै।
                                                               





गोगा- रामदेव तेजा जेड़ा कलजुग रा पीर कठै।                    
भोम-धरा पर आंच आवता मर मिटनै री रीत कठै।
दुर्गा- पन्ना जेड़ी स्वामिभक्ति री रीत कठै।






                                                          बता राणी पद्मणी जेड़ी प्रीत कठै।
                                                          कठै है बो "प्रथ्वी" गोरी ने हरबा वालो ।
                                                          पतिया साग सुरग मे जावण री रीत कठै।
                                                          बता "बाँ "मूमल महेन्द्रा  ओर ढोला- मारू री प्रीत कठै।
                                                          बता राजस्थान "बाँ " थारी रीत कठै।   
                                                        



   

2 comments:

छैल भंवर रघुनाथ सिंह राणावत said...

बहुत ही बहुत शुभकामनाएं आप को

Rajput said...

मारवाड़ सू मेवाड़ तक गुजता "बी" मीरा रा गीत कठै।
बता राजस्थान "बाँ " थारी रीत कठै।

काफी रीति रिवाजों को अंधी आधुनिकता ने जंग लगा दिया है

Post a Comment